Wednesday, October 21, 2020
अनुसंधान और प्रशिक्षण
सेब बागवांनी संगठित प्रयास से ही कामयाब है ।
किसानों को उनकी फसल का सही मूल्य घर द्वार पर मिले ये बहुत अच्छी पहल है । इसमें ध्यान देने वाली बात यह है कि जायका प्रोजेक्ट के तहत चलाई जाने वाली पहल किसी कंपनी के लिए ही न...
कुदरती तरीके से खेती करने के तरीके को संगठित होकर व्यवहारिक बनाने की जरूरत है ।
राष्ट्रीय कृषि बाजार, सोलन में 7 जनवरी को सजेगा । किसान बागवान प्रदेश के इस पहले बाजार में भाग ले सकते है । इंटरनेट पर आधारित किसान उत्पादों के विपणन का यह एक राष्ट्रव्यापी मंच है । सेब बागवान भी इसके...
मंडियों में कीचड़, गंदगी, अव्यवस्था, ट्रैफिक जाम, चालू आढ़ती/ लदानी, प्रति पेटी आढ़ती की चूंगी, कोई बाजार स्थाईत्व नहीं, बागवानों का शोषण और भी न जाने कितनी अनन्त समस्याओं से बागवान गुजरता है, ये उसे ही खबर है । बाकी...
सेब लगाओ, खूब कमाओ
जागरूकता से जनकल्याण ।
सेब बागीचे में सर्दियों में प्रबंधन का सबसे अहम काम ।
तकनीक के साथ, जागरूकता से विकास।
सेहत के लिए बहुत फायदेमंद फल कीवी, गुणों से भरपूर ।
प्राकृतिक खेती से बदलती दशा और दिशा । पहल एक सरकारी कार्यक्रम की ही रहेगी, या फिर वास्तविक
HPMC या अन्य सरकारी विपणन और संबंधित संस्थाएं कितनी प्रभावी और योग्य है मौजूदा बाजार , किसान बागवान की स्थिति के हिसाब से ।
पहले आयात किया जाएगा, फिर इसे नौणी विश्वविद्यालय में लगाया जाएगा, उसके बाद जांच परख करके इसे 2 या 3 साल बाद बागवानों को दिया जाएगा ।
बाज़ार में बढ़ती प्रतिस्पर्धा में कितना जागरूक हो कर काम करने की जरूरत है इसका अंदाजा इंटरनेट की बढ़ती स्पीड से लगाया जा सकता है । अभी भी होर्टीकल्चर विभाग किसी भी योजना को जमीनी स्तर पर लाने के लिए...
बागवांनी को अगर आधुनिक तकनीक को सीखकर किया जाए तो यह मुनाफे का सौदा है । बहुत से किसान बागवान देश भर से इस वाक्य पर खरे उतर रहे है । किसान बागवान वहाँ धोखा खा जाते है जब वो...
तरुवर फल नहीं खात है , सरोवर पियत न पान ...
- Advertisement -

Recent Posts