सेब सेटिंग का अवैध कारोबार, फसल तो है पर मंडी बंद है,

0
266
सोशल मीडिया पर डायरी शेयर करें

यह दिशा आम किसान बागवान को कंपनियों का शिकार बनाने की ओर कदम भी हो सकता है । अधिकारियों और योजनाकारों की नजर में आने के बाद भी यह अवैध व्यापार नजरअंदाज ही किया जा रहा है । इसके बारे में किसान संगठनों से व्यापक चर्चा होनी चाहिए ।


किसान को समस्या यह है कि उत्पाद बनाने के बाद वो इसे बेच नही पाता । बाकी सब सही है । फल और सब्जी प्रसंस्करण एक विशाल उद्योग है । हिमाचल में इसके बारे में बहुत कम लोग जागरूक है । मौजूदा तकनीक में कुछ किसान बागवान समूह ने इसे एक व्यवसाय भी बना दिया है ।

कोरोना की वजह से पूरी व्यवस्था सही भी हो सकती है । अभी तो लापरवाही की ही वजह से हर तरह का नुकसान हो रहा है ।

किसान बागवान जो देश का पेट भरने का काम करता है उसके लिए तुरंत प्रभाव से व्यव्यस्था को बनाना जरूरी है , इसके लिए जो भी जरूरी कदम उठाने चाहिए उसके लिए , सरकार और किसान संगठनों को तुरंत चर्चा करनी चाहिए । व्यव्यस्था भले ही सख्त हो पर सुचारू होनी चाहिए ।

बदलते मौसम और गर्म होती दुनिया मे चुनौतियों के लिए तैयार रहो । अगर कुछ कर सकते है तो अपने आसपास को सुधारो । अपने को सुधारो ।

Like Us

सोशल मीडिया पर डायरी शेयर करें