बागवान भाई भी कोई कसर न छोड़े

0
98
सोशल मीडिया पर डायरी शेयर करें

अपने सेब बागीचों में धुआं लगाकर कोई भी कसर न छोड़ें, क्योकि बाद में किसी दूसरे को दोष देने के इलावा कुछ नहीं बचेगा ।

बड़े और छोटे बागवानों को इसे तर्कसंगत तरीके से समझने और पूरे परिवार को समझाने की जरूरत

Like Us

सोशल मीडिया पर डायरी शेयर करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here