जरूरत से ज्यादा बारिश , सेब बागवानों के लिए कितनी जरुरी !

0
524
सोशल मीडिया पर डायरी शेयर करें

पिछले तीन दिनों से, सेब पैदा करने वाले हिमाचल के क्षेत्रों में लगातार बारिश हो रही है । बहुत से बागवानों ने सेब के तौलियों में खाद मिलाने का काम या तो पूरा कर लिया है , या उस काम आधा हुआ है या बचता है ।

तौलियों में पानी की अधिकता से जमीन बहुत ढीली हो गई है, और कई जगह पर बह भी रही है । एक अनुमान के अनुसार मिलाई गई खाद का कुछ अंश बह कर बर्बाद हो गया हो ।

कई स्थानों पर सेब में फूल आ गए है, कुछ ग्रीन टिप अवस्था मे है, और कुछ स्थान इससे आगे की अवस्था मे है । मौसम अनुकूल होते ही अवस्था से जुड़े स्प्रे ऑर्चर्ड मेनेजमेट के काम पंक्ति में है ।

बगीचे में भूमि सुधार की सही जानकारी होना बहुत जरूरी है । बगीचे में बारिश के ज्यादा पानी के व्यव्यस्था होना बहुत जरूरी है । बगीचे के आसपास के नालों में पानी की निकासी की सही व्यव्यस्था होनी चाहिए । अक्सर देखने में ये आया है कि बगीचे में कांट छाँट से इक्कठी हुई टहनियों को बागवान आसपास के नालों या रास्तों में ठूंस देते है । जो कि किसी न किसी तरह से उन्ही के लिए अवस्था और समस्या बनकर सामने आ रही है ।

नए युवा बागवांन जो सेब उत्पादन में एक कड़ी का काम कर रहे है वो ऑर्चर्ड मैनेजमेंट सीख कर भविष्य में सेब बागवांनी को एक सुनहरा भविष्य बना सकते है ।

बहुत से बागवान ऐसे है जिनके पास सीमित संख्या में सेब के पौधों का बगीचा है । वो इस व्यवसाय को सीख भी रहे है पर जानकारी के अभाव में है । आप भी इस विषय पर कमेंट लिखकर अपनी राय लिख सकते है ।

माईओड डाट इन (www.miod.in , Mi Orchard Diary ) माई ऑर्चर्ड डायरी , भी सेब बागवानों को आधुनिक तकनीक के कई माध्यमों से बागवानों को जागरूक कर रही है । आप भी इसी कड़ी का एक हिस्सा बनकर इस मुहिम के साथ जुड़ सकते है ।

आप हमारा फेसबुक पेज लाईक करके हमे मेसेज कर सकते है । इस लिंक पर क्लिक करके फेसबुक पेज लाइक करें http://www.facebook.com/miorcharddiary

यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करें यहां क्लिक करें ताकि आपको सबसे पहले सेब बागवांनी की जानकारी मिलें ।

Like Us

सोशल मीडिया पर डायरी शेयर करें